पॉलिथीन पर निबंध | Essay on Polythene in hindi (2021)

पॉलिथीन कि समस्या इन दिनों समाज में काफी जायदा बढ़ गई है और आप पॉलिथीन पर निबंध लिखना चाहते हैं तो हमारे Essay on Polythene in hindi से लिख सकते हैं। हमारा पॉलिथीन पर निबंध 2021 बिल्कुल ही अपडेटेड है और आपको अवश्य ही मदद करेगा।

जरूर पढ़ें – इंटरनेट पर 10 वाक्य निबंध

हैलो दोस्तो आज हम बात करेंगे कि पॉलिथीन हमारे पर्यावरण को किस तरह से बर्बाद कर रही है। आपको पता है कि हमारे देश में 2016 की एक रिपोर्ट के अनुसार प्रतिदिन 15,000 टन प्लास्टिक बर्बाद होता है। प्लास्टिक के बढ़ते उपयोग को इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है की पूरे विश्व में इतना ज्यादा प्लास्टिक है कि पृथ्वी को 5 बार प्लास्टिक या पॉलिथीन से लपेटा जा सकता है। आज के पॉलिथीन पर निबंध essay on polythene in hindi लेख में हम जानेंगे की इसके क्या दुष्प्रभाव है और उसको कैसे रोक सकते हैं।

प्लास्टिक पॉलिथीन पर निबंध इन हिंदी
पॉलिथीन पर निबंध इन हिंदी

प्रस्तावना सहित पॉलिथीन पर निबंध

प्रस्तावना:-

पॉलीथिन का उपयोग कई सारे कामों को करने के लिए किया जाता है जैसे बाहर से सामान लाना सब्जी लाना, और राशन लाना इत्यादि ये सभी कार्य के लिए इसका उपयोग बढ़ गया है। और लोग पॉलिथीन का प्रयोग बहुत ज्यादा ही करते हैं। क्यूंकि बाजार में पॉलिथीन आसानी से उपलब्ध है और बड़े पैमाने पर इसका प्रयोग किया जाता है।

क्या आपने इसे पढ़ा – मृदा/भूमि प्रदूषण पर निबंध इन हिंदी

इन थैलियों को निपटाना बहुत जरूरी मुद्दा है और पॉलिथीन की वजह से ही भूमि प्रदूषण फैल रहा है। प्लास्टिक की पॉलिथीन हमारे पर्यावरण में किसी भी चीज से ज्यादा हानि पहुंचा रहा है। पर्यावरण की सुरक्षा के लिए पॉलिथीन पर प्रतिबंध लगाना बहुत जरूरी है।

पॉलिथीन पर्यावरण के लिए क्यों हनिकारक है:-

प्लास्टिक पॉलिथीन हमारे पर्यावरण को बहुत ज्यादा दूषित कर रही हैं और हमारे पर्यावरण के लिए हानिकारक भी है क्योंकि कूड़े कचरे के अलावा एक गंभीर चीज प्लास्टिक और पॉलिथीन है जोकि non biodegradable है। जिन्हें निपटाना हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती है।
प्लास्टिक की थैलियां वर्षों तक धरती पर पड़ी रहती हैं और मिट्टी में मिल जाती है जिससे प्लास्टिक पॉलिथीन कि जहरीली रसायन मिट्टी को भी दूषित करती है और उपजाऊ पन को भी धीमे धीमे कम करती जाती हैं। हम सभी को यह चीजें समझ नहीं होगी यह जितने लाभदायक हैं उतरे हानिकारक भी हैं।

क्या आपने इसे पढ़ा- पर्यावरण प्रदूषण और उसके प्रभाव पर निबंध

पॉलिथीन का दुष्प्रभाव:-

प्लास्टिक पॉलिथीन के अनेकों दुष्प्रभाव उठकर के सामने आए हैं। आइए जानते हैं वो क्या है

1 पॉलिथीन का पौधों पर हानिकारक प्रभाव:-

पेड़ पौधे भी हमारे जीवन का अभिन्न अंग है। जो हम लोगों को ताजी ऑक्सीजन प्राप्त करने में मदद करते है और हमे स्वस्थ रहने में भी मदद करते हैं। हमारे पृथ्वी ग्रह पर अमूल्य जीवन उपलब्ध है। और दुर्भाग्य से हम इस सुंदर पर्यावरण को अपने ही हाथों से दूषित कर रहे हैं।

क्या आपने इसे पढ़ा – पेड़ पर निबंध 2021

यह प्लास्टिक की थैलियां हमारी वनस्पति को नुकसान पहुंचाती हैं। प्लास्टिक की से उत्पन्न हुई  जहरीली रसायनिक पदार्थ मिट्टी को दूषित कर रहे हैं और दूषित मिट्टी पर पेड़ पौधे कभी नहीं पनपते हैं। इसीलिए पौधों की वृद्धि में इस कारण बाधा आ रही है। ये पॉलिथीन इतनी हल्की होती है कि मिट्टी में मिलकर जगह जगह प्रदूषण फैलाती ही हैं और हवा के साथ और जगह भी उड़कर जाती है वहां की मिट्टी भी दूषित होती है।

2– कृषि भूमि पर बढ़ता प्लास्टिक पॉलिथीन का प्रभाव

कृषि भूमि पर भी प्लास्टिक पॉलिथीन का प्रभाव पड़ रहा है। उड़ उड़ कर पॉलिथीन आती है और मिट्टी की गुणवत्ता को केवल कमजोर कर रही है। और मिट्टी का उपजाऊ पन धीमे धीमे कम होता जा रहा है। इसी प्रकार खेतों में अनाज, और हरी सब्जियां ये सभी चीजे इस पॉलिथीन कि वजह से ढ़ंग से उत्पन्न नहीं हो पा रही है।

क्या आपने इसे पढ़ा – वृक्षारोपण पर निबंध 

3- जानवरों और मनुष्य पर बढ़ता प्लास्टिक पॉलिथीन का हानिकारक प्रभाव

जिस तरह से पर्यावरण दूषित होता जा रहा है कृषि फैसले, पौधो की वृद्धि भी रुक गई है और इसी कारण जानवरों और मनुष्य पर भी इसका गहरा प्रभाव पड़ रहा है। प्लास्टिक की पॉलिथीन इधर उधर पड़ी होती है तो गाय, भैंस, इसका पान कर लेती है और इससे उनके पाचन तंत्र में काफी समस्या आती है और उनकी मृत्यु भी हो जाती हैं। इसके साथ साथ मनुष्यो के स्वस्थ पर भी इसका गहरा प्रभाव पड़ता है। इसी कारण से पॉलिथीन का उपयोग करना हमे रोकना चाहिए।

जरूर पढ़ें- प्लास्टिक पॉलिथीन का दैनिक जीवन में महत्व

4- जल प्रदूषण में पॉलिथीन का दुष्प्रभाव:-

प्लास्टिक थैली बहुत ही ज्यादा हल्की होती है उस वजह से लोग उसे ऐसे ही इधर उधर फेक देते है और ये हवा द्वारा आसानी से उड़ाए जाते हैं और जल में ही प्रवाहित हो जाते हैं। ऐसे में जल में भी प्लास्टिक का प्रदूषण बढ़ जाता है और जल प्रदूषित होता जाता है। इसके अलवा हमारे घर जो खाना ऑर्डर होता है को प्लास्टिक की पैकिंग में ही आता है। जब हम पिकनिक पर जाते हैं तो इसी प्रकार के भोजन को ले जाते है और इससे भी बहुत अच्छे पैमाने पर प्लास्टिक की पॉलिथीन, कूड़ा बढ़ता है और बाद में जलो में ही समाहित हो जाता है।

जल प्रदूषण पर निबंध इन हिंदी

पॉलिथीन से लाभ | पॉलिथीन का दैनिक जीवन में महत्व:-

प्लास्टिक से लाभ तो अनेक है और इनका दैनिक जीवन में महत्व भी है आइए जानते हैं पॉलिथीन से क्या लाभ है।

1- हमारे दैनिक जीवन में हमेशा पॉलिथीन का इस्तेमाल करते हैं। जैसे बाहर से समान लाना हुआ , या कहीं किसी को समान देना हुआ तो पॉलिथीन में ही जाता है।

2- इसके अलावा अगर हमे थोड़ा समान कहीं ले जाना होता है तो हम छोटी पॉलिथीन में ही लेके जाते हैं। अपने दैनिक जीवन में भरपूर इस्तेमाल करते हैं। हम ही इसके आदि हो चुके हैं।

Essay on Plastic Polythene in hindi
Essay on Plastic Polythene in hindi

3- प्लास्टिक की ही पैकिंग में बाहर से भोजन भी आता है जो हम पिकनिक पर ले जाते हैं और सभी मिल के खाते हैं।

धरती माता पर निबंध इन हिंदी

4- बाजार में किसी भी समान की पैकिंग होती होती हैं तो प्लास्टिक की पन्नी में ही पैकिंग होती है।

5- इसके अलावा बाजार में ये छोटी से बड़ी size तक में आती हैं।

पॉलिथीन से हानि:-

पॉलिथीन से एक नहीं अनेकों हानियां है आइए नीचे दिए बिंदुओं में जानते हैं।

1- पॉलिथीन हमारे पर्यावरण को ही नहीं अपितु पेड़ पौधों को भी दूषित कर रही है ये सबसे बड़ी हानि हैं।

2- पॉलिथीन से हमारे पालतू और जंगली पशुओं को भी हानि होती है। वो खाने और प्लास्टिक की पॉलिथीन में अंतर नहीं कर पाते हैं जिससे उनके अंदर पॉलिथीन फस जाती है या गले में भी अटक जाती है जिसके कारण उन सभी को अनेक बीमारियों का सामना भी करना पड़ता हैं।

पृथ्वी बचाओ पर निबंध इन हिंदी

3- कृषि विभाग में भी पॉलिथीन से केवल हानिया ही होती है क्युकी ये इतनी हल्की होती है कि हवा इन्हे उड़ा कर खेतों में ले जाती है और सालों तक मिट्टी में धंस कर यह उपजाऊ मिट्टी को भी बंजर बना देती है क्योंकि इनके अंदर से जहरीली रसायन उत्पन्न होती है जिससे मिट्टी का उपजाऊ पन धीरे धीरे कम होता चला जाता है।

तो यही पॉलिथीन से हमे हानिया होती है जोकि हमारे लिए बड़ी ज्यादा खतरनाक हैं।

पृथ्वी दिवस पर निबंध इन हिंदी 

पॉलिथीन को रोकने का उपाय:-

पॉलिथीन को रोकने के अनेकों उपाय है आइए जानते है वो क्या है:-

1- हम मनुष्य को पॉलीथिन का इस्तेमाल बिल्कुल नहीं करना चाहिए। उसके जगह समान लेने कपड़े का थैला या झोला लेकर जाना चाहिए।

2- सरकार को पॉलिथीन को बंद करने के लिए कड़े कदम उठाने चाहिए। हालांकि सरकार ने पॉलिथीन को बंद ही कर दिया है और हम मनुष्य को भी इसका इस्तेमाल बिल्कुल नही करना चाहिए।

पृथ्वी की आत्मकथा पर निबंध इन हिंदी

3- प्लास्टिक बैग को खत्म करने के लिए उन दुकानदारों पर जुर्माना लगाना चाहिए जो प्लास्टिक के बैग प्रसारित करते हैं और और उन पर भी सख्त कदम उठाने चाहिए जो भी प्लास्टिक की पॉलीथिन का इस्तेमाल करते नजर आते हैं।

4- हमारे देश में लोगों को समझना चाहिए कि प्लास्टिक की पॉलिथीन हमारे लिए कितनी हानि पहुंचती हैं और अप्रत्यक्ष रूप से हमारे जीवन को नष्ट कर रही हैं। सरकार ने तो इसपर पूरी तरीके से पाबंदी लगा दी है बस अब हमे ही जागरूक होकर इसका पालन करना है और अपने देश को स्वच्छ और सुंदर बनना हैं। 

उपसंहार/निष्कर्ष:-

आज हमने जाना की पॉलिसी से हमारे जीवन में कितना गहरा प्रभाव पड़ता है जिससे हमें कितनी ज्यादा हानियां होती है। हम यह बात अच्छे से जानते हैं कि पॉलिथीन हमारे दैनिक जीवन में लाभदायक तो है पर इससे हमे लाभ से कहीं ज्यादा हानियां हो रही है। इसलिए हमें पॉलिथीन का उपयोग करना बंद कर देना चाहिए। ताकि मानव जीवन ही नहीं अपितु पशुओं का जीवन भी सुरक्षित हो सके। आपको हमारा पॉलिथीन पर निबंध Essay on Polythene in hindi कैसा लगा नीचे कॉमेंट कर के जरूर बताएगा। 

क्या आपने इसे पढ़ा:-

Leave a Comment